Breathless – Lyrics in English & Hindi

Breathless – Shankar Mahadevan Lyrics

SingerShankar Mahadevan
Music 
LyricistJaved Akhtar
LanguageHindi
DirectorFarhan Akhtar
Music LabelSaregama

Breathless Lyrics in English

Koi Jo Mila To Mujhe Aisa Lagta tha Jaise
Meri Saari Duniya Mein
Geeton Ki Rut Aur
Rangon Ki Barkha Hai
Khushboo Ki Aandhi Hai
Mehki Hui Si Ab Saari Fizaayein Hai
Behki Hui Si Ab Saari Havaayein
Khoyi Hui Si Ab Saari Dishaayein Hai
Badli Hui Si Ab Saari Adaayein Hai
Jaagi Umange Hai Dhadak Raha Hai Dil
Saanson Me Toofa Hai Hothon Pe Nagme Hai
Aankhon Me Sapne Hai
Sapno Me Beete Huye Saare Woh Lamhe Hai
Jab Koi Aaya Tha
Nazro Pe Chaaya Tha
Dil Me Samaya Tha
Kaise Mai Bataun Tumhe
Kaise Use Paaya Tha
Pyaare Se Chehre Pe
Bikhri Jo Zulfein To Aisa Lagta Tha Jaise
Kohre Ke Peeche Ek Os Me Dhula Hua
Phool Khila Hai Jaise
Baadal Me Ek Chaand Chupa Hai
Aur Jhaank Raha Hai Jaise
Raat Ke Parde Me
Ek Savera Hai Roshan Roshan
Aankhon Me Sapno Ka Saagar Jisme
Prem Sitaaron Ki Chaadar Jaise Jhalak Rahi Hai
Lahro Lahro Baat Kare To Jaise Moti Barse
Jaise Kahi Chaand Ki Paayal Goonje
Jaise Kahi Sheesh Ke Jaam Gire Aur Chann Se Tootey
Jaise Koi Chip Ke Sitaar Bajaye
Jaise Koi Chaandani Raat Me Gaaye
Jaise Koi Haule Se Paas Bulaye
Kaisi Meethi Baate Thi Wo
Kaisi Mulakate Thi Woh
Jab Maine Jaana Tha
Nazro Se Kaise Pighalte Hai Dil Aur
Aarzoo Paati Hai Kaise Manzil
Aur Kaise Utarta Hai Chaand Zameen Par
Kaise Kabhi Lagta Hai Swarg Agar Hai To
Bas Hai Yahi Par
Usne Banaya Mujhe
Aur Samjhaya Mujhe
Hum Jo Mile Hai Humein
Aise Hi Milna Tha
Gul Jo Khile Hai Unhe
Aise Hi Khilna Tha
Janmo Ke Bandhan
Janmo Ke Rishtey Hai
Jab Bhi Hum Jamne To
Hum Yuhi Milte Hai
Kaano Me Mere Jaise Shahad Sa Ghulne Lage
Khwaabo Ke Dar Jaise Aankhon Me Khilne Lage Khwaabo Ki Duniya Bhi Kitni Hasi Aur
Kaisi Rangee Thi
Khwaabo Ki Duniya Jo Kehne Ko Thi Par Kahi Bhi Ni Thi
Khwaab Jo Toote Mere
Aankh Jo Khuli Meri
Hosh Jo Aaya Mujhe
Maine Dekha Maine Jaana
Wo Jo Kabhi Aaya Tha
Nazro Pe Chaaya Tha
Dil Me Samaya Tha
Jaa Bhi Chuka Hai Aur
Dil Mera Hai Ab Tanha Tanha
Na To Koi Armaa Hai Na Koi Tamanna Hai
Aur Na Koi Sapna Hai
Ab Jo Mere Din Aur Ab Jo Meri Raate Hai
Unme Sirf Aansoo Hai
Unme Sirf Dard Ki Ranjh Ki Baate Hai Aur Faryaade Hai
Mera Ab Koi Nahi
Mai Hu Aur Khoye Huye
Pyaar Ki yaadein Hai-3

Main hoon aur khoye hue pyaar ki yaadein hain
Main hoon aur khoye hue pyaar ki yaadein hain
Main hoon aur khoye hue pyaar ki yaadein hain
Ab jo mere din aur ab jo meri raatein hain
Unmein sirf aasun hain
Unmein sirf dard ki ranj ki baatein hai
Aur faryadein hain
Mera ab koi nahin
Main hoon aur khoye hue pyaar ki yaadein hain
Doob gaya hai dil gham ke andhare
Meri saari duniya hai dard ke ghere main
Mere saare geet dhale aahon main
Ban ke deewana ab yahan wahan phirta hoon
Thokare khata hoon un rahaon main
Jahan use dekha tha
Jahan use chaha tha
Jahan main hansa tha
Aur bad mein roya tha
Jahan use paya tha
Pake khoya tha
Jahan kabhi fuphoolon ke kaliyo ke saaye the
Rangeen rangeen mehki rut ne
Har ek kadam pe raas rachaye the
Gulshan gulshan
Din main ujaale the j
Jagmag jagmag
Noor tha raaton main j
Jhilmil jhilmil
Jahan maine kh(w)awaboNn ki dekhi thi manjzil
Jahan meri kashti ne paya tha sahil
Jahan maine payee thi palkhon ke chhanv
Jahan meri bahon main kal thi kisi ki marimari bahein
Jahan ek chehre se hat ti nahi thi meri nigahein
Jahan kal narmi hi narmi hi thi
Pyar hi payaar tha hathon main hath thei
Jahan kal gaye the prem tarane
Jahan kal dekhe the sapne sunahane
Kisi ko sunaye the dil ke fasane
Jahan kal khayi thi jeene ki marne ki kasme
Todi thi duniya ki saari rasmein
Jahan kal barsa tha prieet ka badal
Jahan maine thama tha koi aanchal
Jahaan pehli baar mein hua tha pagal
Ab uun rahon mein koi nahi hai
Ab hai woh rahe veera veerain viraan viraan
Dil bhi hai jaise hairan hairan
Jaane kahan gaya mera sapno ka mela
Aise hi khayalo mein khoya khoya
Ghoom raha tha mein kabse akela
Chamka sitara jaise koi gagan mein
Gunji sadaa koi man aangan mein
Kisi ne pukara mujhe
Mud ke jo dekha maine
Mil gaya khoya hua dil ka sahara mujhe
Jise maine chaha tha
Jise maine puja tha
Laut ke aaya hai
Thoda sharminda thoda ghabraya hai
Zulf pareshan hai
Kaampte houtnth aur bheegi hui ankhen
Dekh raha mujhe gumsum gumsum
Uski nazar jaise puch rahi hai
Itna toh bata do kahi khafa toh nahi tum
Pyaar jo dakhia phir meri nigahoon mein
Agle hi pal tha woh meri in bahon mein
Bhool gaya mera dil jaise har gham
Badal gaya jaise duniya ka mausam
Jhoome nazare aur jhuoomi fizaien aur jhoome thei mann aur jhuoomi hawaein
Jaise phir gaane lagi saari dishayen
Kitni hasiNeen hai kitni suhani
Hum dono ki prem kahani
Hum dono ki prem kahani
Hum dono ki prem kahani

Breathless Lyrics in Hindi

कोई जो मिला तो मुझे ऐसा लगता था जैसे
मेरी सारी दुनिया में
गीतों की रुत और रंगों की बरखा है

खुशबू की आँधी है

महकी हुई सी अब सारी फ़ज़ायें हैं
बहकी हुई सी अब सारी हवायें हैं
खोई हुई सी अब सारी दिशायें हैं
बदली हुई सी अब सारी अदायें हैं
जागी उमंगें हैं धड़कर रहा है दिल
साँसों में तूफ़ाँ है, होँठों पे नग़में हैं
आँखों में सपने हैं
सपनों में बीते हुए सारे वो लम्हें हैं

जब कोई आया था, नज़रों पे छाया था, दिल में समाया था
कैसे मैं बताऊँ तुम्हें कैसे उसे पाया था
प्यारे से चेहरे पे बिखरी जो ज़ुल्फ़ें तो ऐसे लगता था
जैसे कोहरे के पीछे एक ओस में धुला हुआ फूल खिला
जैसे बादल में एक चाँद छुपा है और झाँक रहा है
जैसे रत के पर्दे में एक सवेरा है
रोशन रोशन आँखों में सपनों का सागर जिस में
प्रेम सितारों की चादर जैसे
झलक रही है लहरों लहरों बात करें तो जैसे मोती बरसे

जैसे कहीं चाँदी की पायल गूँजे
जैसे कहीँ शीशा-ए-जाम गिरे और छन से टूटे
जैसे कोई चुपके से सितार बजाये
जैसे कोई चाँदनी रात में गाये
जैसे कोई हौले-से पास बुलाये

कैसी मीठी बातें थीं वो, कैसी मुलाक़ातें थीं वो
जब मैं ने जाना था, नज़रों से कैसे पिघलते हैं दिल
और आरज़ू पाती है कैसे मंज़िल
और कैसे उतरता है चाँद ज़मीं पर
कैसे कभी लगता है स्वर्ग अगर है तो बस यहीं पर

उसने बताया मुझे और समझाया मुझे
हम जो मिले हैं हमें ऐसे ही मिलना थ
गुल जो खिले हैं इन्हें ऐसे ही खिलना था
जनमों के बन्धन, जनमों के रिश्ते हैं
जब भी हम जनमें तो हम यहीं मिलते हैं
कानों में मेरे जैसे शहद-सी घुलने लगे

ख़्वाबों के दर जैसे आँखों में घुलने लगे
ख़्वाबों की दुनिया भी कितनी हसीं और कैसी रंगीं थी
ख़्वाबों की दुनिया जो कहने को थी, पर कहीं भी नहीं थी
ख़्वाब जो टूटे मेरे, आँखें जो खुली मेरी
होश जो आया मुझे, मैं ने देखा मैं ने जाना
वो जो कभी आया था, नज़रों पे छाया था, दिल में समाया था
जा भी चुका है और दिल मेरा अब तन्हा-तन्हा

न तो कोई अरमाँ है न कोई तमन्ना है
और न कोई सपना है, अब जो मेरे दिन और अब जो मेरी रातें हैं
उन में सिर्फ़ आँसू हैं, उन में सिर्फ़ रंज की बातें हैं
और फ़रियादें हैं, मेरा अब कोई नहीं
मैं हूँ और खोये हुए प्यार की यादें हैं
मैं हूँ और खोये हुए प्यार की यादें हैं
मैं हूँ और खोये हुए प्यार की यादें हैं

मैं हूँ और खोए हुए प्यार की यादें हैं।
मैं हूँ और खोए हुए प्यार की यादें हैं।
मैं हूँ और खोए हुए प्यार की यादें हैं।

अब जो मेरे दिन और अब जो मेरी रातें हैं, उनमे सिर्फ आँसू है
उनमे सिर्फ दर्द की रंज की बातें हैं और फरियादें हैं मेरा अब कोई नहीं
मैं हूँ और खोए हुए प्यार की यादें हैं।

डूब गया है दिल ग़म के अँधेरे में, मेरी सारी दुनिया है दर्द के घेरे में
मेरे सरे गीत ढले आहों में।
बनके दीवाना अब यहाँ वहां फिरता हूँ, ठोकर खाता हूँ उन राहों में
जहाँ उसे देखा था, जहाँ उसे चाहा था
जहाँ मैं हँसा था और बाद में रोया था
जहाँ उसे पाया था, पा के खोया था

जहाँ कभी फूलों के कलियों के साए थे रंगीन रंगीन महकी ऋतू ने
हर एक कदम पे रास रचाए थे गुलशन गुलशन दिन में उजाले थे जग मग जग मग
नूर था रातों में झिल मिल झिल मिल।
जहाँ मैंने ख़्वाबों की देखि थी मंजिल, जहाँ मेरे कश्ती ने पाया था साहिल
जहाँ मैंने पाई थी पलकों की छाओं
जहाँ मेरी बाहों में कल थी किसी की मरीमरी बाहें
जहाँ एक चेहरे से हटती नहीं थी मेरी निगाहें।
जहाँ कल नरमी ही नरमी थी प्यार ही प्यार था बातों में हात थे हातों में
जहाँ कल गाए थे प्रेम तराने
जहाँ कल देखे थे सपने सुहाने, किसी को सुनये थे दिल के फ़साने
जहाँ कल खाई थी जीने की मरने की कसमें, तोड़ी थी दुनिया की सारी रस्में
जहाँ कल बरसा था प्रीत का बदल, जहाँ मैंने थामा था कोई आँचल
जहाँ पहली बार हुआ था मैं पागल
अब उन राहों में कोई नहीं है, अब है वो राहें वीरान वीरान
दिल भी है जैसे हैरान हैरान, जाने कहाँ गया मेरे सपनों का मेला
ऐसे ही खयालों में खोया खोया, घूम रहा था मैं कब से अकेला।
चमका सितारा जैसे कोई गगन में, गूंजी सदा कोई मन आँगन में।
किसी ने पुकारा मुझे, मुड के जो देखा मैंने
मिल गया खोया हुआ दिल का सहारा मुझे
जिसे मैंने चाहा था, जिसे मैंने पूछा था
लौट के आया है
थोडा शर्मिंदा है, थोडा घबराया है
ज़ुल्फ़ परेशान है
कांपते होंट और भीगी हुई आँखें
देख रहा है मुझे गुमसुम गुमसुम।
उसकी नज़र जैसे पूछ रही हो इतना बता दो कहीं खफा तो नहीं तुम
प्यार जो देखा फिर मेरी निगाहों में
अगले ही पल था वो मेरी इन बाहों में
भूल गया मेरा दिल जैसे हर ग़म, बदल गया जैसे दुनिया का मौसम
झूमे नज़ारे और झूमी फिज़ाएं और झूमे थे मन और झूमी हवाएं।
जैसे फिर गाने लगी सारी दिशाएं
कितनी हसीं है कितनी कितनी सुहानी

हम दोनों की प्रेम कहानी।
हम दोनों की प्रेम कहानी।
हम दोनों की प्रेम कहानी।

Breathless-lyrics-in-hindi

written by: Javed Akhtar

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.